मुजफ्फरनगर बड़ा हादसा,23 की मौत 156 घायल!

मुजफ्फरनगर.यहां शनिवार को खतौली स्टेशन के पास हुए रेल हादसे को लेकर बड़ा खुलासा हुआ है। दरअसल, हादसे से जुड़ा एक ऑडियो सामने आया है, ज‍िसमें घटनास्थल से कुछ दूरी पर तैनात गेटमैन और एक रेलवे वर्कर की बातचीत है। गेटमैन बता रहा है कि पटरी पहले से टूटी थी, लेकिन उस पर सही से काम नहीं किया जा रहा था। जो पटरी काटी गई थी, उसे जोड़ा नहीं गया और ऐसे ही छोड़ दिया गया। वहां काम करने वाले वर्कर्स अपनी मशीन भी वहीं छोड़कर चले गए। फ‍िर ज‍िस वक्त हादसा हुआ, जून‍ियर इंजीन‍ियर (जेई) ने अपना फोन बंद कर ल‍िया। वर्कर्स करते हैं लापरवाही…

– ऑडियो क्ल‍िप में गेटमैन बता रहा है कि पटरी जोड़ी नहीं गई थी और ट्रेन के आने का वक्त हो गया था। ऐसे में सुरक्षा के लिए न कोई सिग्नल दिया गया और न ही लाल झंडा लगाया गया।
– क्लिप के मुताबिक, पटरी पर काम करने वाले ज्यादातर वर्कर्स लापरवाही बरतते हैं। उसका आरोप है कि रेलवे वर्कर्स साइट पर आते हैं और बैठे रहते हैं। हाल ही में यहां नए जेई का अप्वाइंटमेंट हुआ है और पुराने वर्कर्स उनकी बात नहीं मानते और मनमानी करते हैं।
– बातचीत में गेटमैन ये भी कह रहा है कि हादसे के बाद ड्यूटी पर तैनात गैंगमैन, लोहार और जेई मौके से फरार हो गए और जेई ने तो अपना फोन बंद कर लिया। बता दें, इस ऑडियो क्लिप की आधिकारिक पुष्टि नहीं हो पाई है।
कैसे और कब हुआ हादसा?
– मुजफ्फरनगर के खतौली में शनिवार शाम पुरी-हरिद्वार उत्कल एक्सप्रेस के 12 डिब्बे पटरी से उतर गए थे। हादसे में 23 लोगों की मौत हुई है। 156 से ज्यादा घायल हैं।
– शुरुआती जांच में रेलवे की लापरवाही सामने आई है। बताया जा रहा है कि ट्रैक पर दो दिन से काम चल रहा था। ट्रेन के ड्राइवर को कॉशन कॉल नहीं मिला। ढीली कपलिंग वाले ट्रैक से ट्रेन 105Kmph की रफ्तार से गुजरी और पटरी से उतर गई। अमूमन ऐसी जगह रफ्तार 15-20Kmph रखी जाती है।
– रेलमंत्री सुरेश प्रभु ने उत्कल एक्सप्रेस हादसे पर रेलवे बोर्ड चेयरमैन को रविवार शाम तक हर हाल यह बताने को कहा है कि इसके लिए जिम्मेदार कौन है।
– उधर, योगी आदित्यनाथ ने भी इस हादसे की हाईलेवल इन्क्वाइरी के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा, “ये बड़ा दुखद हादसा है। मौके पर हम लोगों ने पुलिस और प्रशासन को भेजा है। यूपी सरकार के दो मंत्री सतीश महाना और सुरेश राणा को भेजा है।”
– ”युद्धस्तर पर राहत कार्य किए जाएंगे। मृतकों और घायलों के परिजनों के साथ मेरी संवेदनाएं हैं। रेल मंत्रालय के साथ हम संपर्क में हैं। जो जरूरी कदम होंगे वो उठाए जाएंगे।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *