ये है दुनिया की सबसे अजीबो-गरीब जगहें जिनके बारे में जानकर आप भी हो जायेंगे हैरान

यह दुनिया बड़ी ही अजब-गजब जगहों से भरी पड़ी है। अगर आप सोंचते हैं कि आपने भारत में बहुत कुछ देख लिया है और अब यहां देखने लायक कुछ नहीं बचा तो आप जाने-अंजाने कहीं कुछ बड़ा मिस कर देंगे।क्‍या आप जानते हैं कि भारत में एक ऐसी झील है जो केवल कंकालों से भरी पड़ी है या फिर हम आप से कहें कि यहां पर एक करणी माता का ऐसा मंदिर है जहां लगभग 20, 000 चूहे घूमा करते हैं और उनका जूठा किया हुआ प्रशाद भक्‍तों में बंटता है? यह तो कुछ भी नहीं है, भारत में ऐसे कई मंदिर, दरगाह, कस्‍बे, वादियां-पहाड़ियां, अजीबो गरीब रस्‍में और रिवाज़ आदि मौजूद हैं, जो भारत को इन्क्रेडिबल इंडिया का खिताब दिलाते हैं।तो क्‍या आप तैयार हैं भारत के इन विचित्र जगहों पर जाने को?

उड़ता पत्‍थर – शिवपुर, महाराष्‍ट्र

feedaddy_pathar
पुणे से कुछ ही दूर शिवपुर नामक एक विचित्र कस्‍बा है जहा बाबा हजरत कमर अली की दरगाह है। 800 साल पहले इस दरगाह में अखाड़ा हुआ करता था, जहां पर सूफी संत कमर अली का कुछ पहलवान मिल कर मजाक उड़ाया करते थे। तभी संत ने खफा होकर पहलवानों दृारा उठाये जाने वाले इस 70 किलो के पत्‍थर पर अपना मंत्र फूंक दिया। तब से इस भारी भरकम पत्‍थर को केवल 11 उंगलियों से छू कर तथा संत कमर अली का नाम तेज से पुकारने पर ही उठाना संभव है।

काले जादू की भूमि – मयोंग, असम

feedaddy_jhil
गुवाहाटी से 40 कि.मी. की दूरी पर बसा मयोंग नामक गांव संस्‍कृत शब्‍द माया से पड़ा है। इस गांव के बारे में कुछ भयानक कहानियां प्रचलित हैं जैसे, लोग हवा में गायब हो जाते हैं या फिर वे जानवरों में बदल जाते हैं, आदि। यहां पर जादू-टोना पारंपरिक रूप से किया जाता है और पीढियों दर पीढियों चला आ रहा है।

कंकालों की झील – रूपकुंड झील, चमोली, उत्‍तराखंड

feedaddy_kankal
इस रहस्यमय झील को कंकाल झील के नाम से जाना जाता है और इस झील का सबसे बड़ा आकर्षण 600 से ज्यादा कंकाल हैं जो कि इस झील से पाए गए थे। यह नौवीं सदी से है और जब बर्फ पिघलती है तो इसका तल स्पष्ट दिखाई देता है।

चुंबक की तरह चिपकाए- मैगनेटिक हिल, लद्दाख

feedaddy_hill
लद्दाख में बसी यह पहाड़ी  चुम्बकीय शक्‍ति से भरी हुई है जो कि गाडियों को करीब 20 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से अपनी ओर बिना इंजन चलाए खींच लेती है। वास्तविकता में, यह ऑप्टिकल इल्‍युजन है जो कि गुरुत्वाकर्षण पहाड़ी की वजह से है।

20,000 चूहों का मंदिर – करणी माता मंदिर, राजस्‍थान

feedaddy_mouse
यह मंदिर बीमानेर से 30 km की दूरी पर है, जिसके अंदर 20,000 चूहे रहते हैं। यहां पर आने वाले भक्‍तों को इन्‍हीं चूहों का झूठा प्रशाद खाने को दिया जाता है। माना जाता है कि ये चूहे करणी माता के परिवार के सदस्‍य हैं। इन चूहों में 7 सफेद चूहे भी हैं जिन्‍हें “काबा” के नाम से जाना जाता है, ये चूहे माता जी के पुत्र माने जाते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *